भारत के बाज़ार
भारत रंग, संस्कृतियों और अनोखी वस्तुओं की ख़रीददारी के शौकिनों के लिए सपनों की मंज़िल है। यहाँ राजस्थान के जयपुर में रौनक भरी गलियों में आभूषणों की ख़रीददारी से लेकर, कश्मीर, कांचीपुरम (तमिलनाडु) और वाराणसी (उत्तर प्रदेश) तक की विरासत की बनावट के साथ साथ और भी बहुत कुछ है। इसके अलावा, उच्च श्रेणी वाले ब्रांड, आलीशान मॉल और सजीले स्टोर ऐसे ऐसे अवसर प्रदान करते हैं, जहां ख़रीददारी करने का शौकीन कोई भी व्यक्ति अचूका नहीं रह पाएगा। तो चाहे आप प्रीमियम बनारसी साड़ियों की तलाश में वाराणसी की गलियों से गुज़रें, या दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु के डिजाइनर स्टोरों पर रुकें, भारत में हर बार जी भर कर ख़रीददारी करने के आनंद की अनुभूति होती है। भारत का दिल कही जाने वाली नई दिल्ली, ख़रीददारी करने का पसंदीदा स्थान है। यहां के बाज़ारों में आभूषण और कालीन के साथ साथ पारंपरिक हस्तशिल्प से लेकर कीमती चांदी के बर्तन, पत्थर, सिल्क जैसी कई वस्तुएं मिलती हैं। कनॉट प्लेस, लाजपत नगर मार्केट या साउथ एक्सटेंशन में बहुत खूबसूरत डिज़ाइनर कपड़ों की शॉपिंग करें या सरोजिनी नगर और चांदनी चौक के गलियों के बाज़ारों का मुआयना करें।

कोलकाता (पश्चिम बंगाल) को खुशहाली का शहर कहा जाता है, जो यात्रियों को बहुत पसंद आता है और वहां के दुकानदारों के लिए यह ख़ुशी की बात है। पारंपरिक हाथ से बुने गए वस्त्रों से लेकर हथकरघा की साड़ियों, टेराकोटा की वस्तुओं और अन्य यादगार चिन्हों तक, कोलकाता के बाज़ार उत्पादों की विविधता से भरे हुए हैं। 

चेन्नई के तमिलनाडु शहर में ख़रीददारी की अनेक सुविधाएं हैं। इनमें उच्च श्रेणी के बुटीक, कला, शिल्प, यादगार चिन्ह और वस्त्र शामिल हैं। कांजीवरम साड़ियों और सोने के आभूषणों की ख़रीददारी करने के लिए टी नगर यहाँ का प्रमुख स्थान है; वहीं चमड़े के सामान, पुरुषों और महिलाओं के लिए कपड़े और सस्ते आभूषणों के लिए पोंडी बाजार है प्रसिद्ध है; ब्रांडेड दुकानों और बुटीक के लिए कादर नवाज़ खान रोड है। जबकि रिची स्ट्रीट इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं के लिए प्रसिद्ध है, अन्ना सलाई, स्पेंसर प्लाजा मॉल के लिए प्रसिद्ध है, जो शहर के सबसे पुराने शॉपिंग कॉम्प्लेक्सों में से एक है। 

महाराष्ट्र में मुंबई दुकानदारों का स्वर्ग है. बांद्रा में लिंकिंग रोड पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सबसे बढ़िया सामान, कपड़े और जूतों के लिए जाना जाता है। बांद्रा में हिल रोड में बहुत खूबसूरत हार्डवेयर, लकड़ी के सामान और कपड़ों की दुकानें हैं। कोलाबा में अच्छी किस्म की किताबें, आभूषण, कपड़े, जूते और हस्तकला की चीज़ें मिलती हैं। एमजी रोड पर मशहूर फैशन स्ट्रीट में उचित कीमतों पर फैशनेबल और उच्च श्रेणी के रोज़मर्रा में पहनने वाले कपड़े मिलते हैं। इस बड़े बाजार में 300 से ज्यादा दुकानें हैं, जिसमें फैशन के सामानों की अनंत किस्में हैं, जिनकी ख़रीददारी में पूरा दिन लग सकता है। परेल में हिंदमाता मार्केट में शादियों के लिए विशेष प्रकार के पारंपरिक और इंडो-वेस्टर्न कपड़े मिलते हैं। 

अनोखे रंग, पैटर्न और डिजाइनों की विविधता में मिलने वाली विशिष्ट रेशम की साड़ियां कर्नाटक के मैसूर शहर का प्रमुख आकर्षण है। कांजीवरम के नाम से जानी जाने वाली साड़ियों को विशेष रूप से ज़री के काम के लिए पसंद किया जाता है, जिससे उन्हें सजाया जाता है। यह धागे का काम मैसूर सिल्क साड़ियों की कीमत का निर्धारण करता है, और यहाँ तक की एक शुद्ध ज़री (सोने) की साड़ी की कीमत लाखों में हो सकती है! इसके अलावा, आप राज्य में लकड़ी के खिलौनों की ख़रीददारी भी कर सकते हैं।

गुजरात में अहमदाबाद दुकानदारों के लिए संतुष्टिपूर्ण है और इसके अनेक बाजार आभूषण, हस्तशिल्प और कई अन्य चीज़ों के केंद्र हैं। यहां का सबसे लोकप्रिय बाजार मानेक चौक है, जो दिन में सब्जी बाजार होता है और शाम के समय आभूषण और कपड़ों का हॉटस्पॉट बन जाता है। यह पुराने शहर के केंद्र में स्थित है और सभी खुदरा वस्तुओं के लिए उपयुक्त स्थान है। यहां के आभूषण बाजार को भारत में इस तरह का दूसरा सबसे बड़ा बाजार कहा जाता है। बहुत सारी स्वादिष्ट कुल्फी (जमे हुए दूध की मिठाई) खाते हुए शानदार सामान की ख़रीददारी कर सकते हैं क्योंकि यह बहुउद्देश्यीय बाजार स्ट्रीट फूड हब भी है। 

उत्तर प्रदेश में, लखनऊ के रौनक भरे बाजार, किसी भी दुकानदार की खुशी का कारण है क्योंकि शहर में कई तरह के अनोखे और सुंदर हस्तशिल्प और हथकरघा के उत्पाद उपलब्ध हैं। लखनऊ की गलियों में ख़रीददारी में चिकेनकारी, आभूषण और अन्य हस्तशिल्प की ख़रीददारी शामिल है। एक सदी पुराने हजरतगंज में चिकेन की कढ़ाई की वस्तुओं, ब्रांडेड कपड़े, खादी, गहने और जूतों की बहुत विविधता है। पारंपरिक बाजार में कंधों को रगड़ने वाली भीड़ होती है, एक ही स्थान पर उच्च श्रेणी के शोरूम, सिनेमा हॉल और फैक्टरी आउटलेट हैं। इसी बीच में, भदोही अपने हाथ से बनाए गए कालीनों के लिए प्रसिद्ध है, जिन्हें दुनिया भर के खरीदारों के बीच प्रसिद्ध हैं।

त्रिपुरा में, अगरतला की रौनक भरी गलियां, दुकानदारों के सपनों की मंज़िल हैं, विशेष रूप से यदि आप अनोखे हस्तशिल्प आदिवासी उत्पादों से प्यार करते हैं। यहाँ आप बेंत और बांस के फर्नीचर जैसे सोफा, बहुत सुंदर तरीके से तैयार की गई लकड़ी की आलमारियां, सेंटर टेबल, डाइनिंग टेबल, दीवान-कम-बेड, फोम के दीवान और डाइनिंग टेबल की ख़रीददारी कर सकते हैं। यहाँ आप लोकप्रिय मुढहा, नीचा स्टूल खरीदना न भूलें। 

वाराणसी (उत्तर प्रदेश) का पुराना बाज़ार, विश्वनाथ मंदिर के आसपास की गलियों में और चौक पर शहर का सबसे प्रसिद्ध स्ट्रीट शॉपिंग क्षेत्र हैं। यादगार चिन्ह, धातु शिल्प की वस्तुएं, हाथ से बने हुए खिलौने, आभूषण और पारंपरिक इत्र से लेकर बनारसी साड़ी और ब्रोकेड तक, यहां बहुत कुछ मिलता है। विश्वनाथ मंदिर के रास्ते में, सबसे विश्वसनीय बनारसी सामान और बुने हुए कपड़े ढूंढने के लिए ठटेरी बाजार और गोदौलिया में गलियों की भूल भुलैया में ज़रूर जाएं। 

पंजाब में, अमृतसर, शहर अपने बाज़ारों के लिए प्रसिद्ध है और फुलकारी (फूल के जैसा) के काम, जूतियो और चर्चित एक्सेसरीज़ इत्यादि की सबसे अच्छी विविधताएं हैं, जो इसे कुछ पारंपरिक ख़रीददारी में शामिल करने के लिए एक आदर्श स्थान बनाती हैं।

उत्तर प्रदेश में, आगरा, सही मायने में दुकानदारों का आश्रय है, चाहे यह सादगी भरे, सस्ते स्मृति चिन्ह हो या शहर के कारीगरों की विरासत के शानदार नमूने, यहाँ आपको आपकी पसंद के बजट के हिसाब से बहुत कुछ मिल सकता है: मजबूत संगमरमर और नरम पत्थर की जड़ाई के काम, चमड़े के सामान और पीतल के बर्तन से लेकर कालीन, आभूषण और कढ़ाई के काम तक सब कुछ आसानी से मिल सकता है। यहां कई स्थानीय बाजार भी हैं, जहां अनेक प्रकार की चीज़ें मिलती हैं, जिन्हें आप एक यादगार के रूप में घर ले जा सकते हैं। इनमें से कुछ सबसे लोकप्रिय हैं जैसे कि सदर बाज़ार, सुभाष बाज़ार, किनारी बाज़ार, राजा-की-मंडी, संजय प्लेस, फतेहाबाद रोड, मुनरो रोड, शिल्फ़ात, और ताजमहल कॉम्प्लेक्स। आगरा से थोड़ी दूरी पर, फिरोजाबाद है, जो अपनी कांच की चूड़ियों के लिए बहुत लोकप्रिय है, जो विशेष रंग और स्टाइल में बेची जाती हैं।

तमिलनाडु में, ऊटाकामुंड में बहुत सी चीज़ें खरीदी जा सकती हैं। इस जगह में लीन हो जाने पर, पूरे शहर में मदहोश करने वाली चाय की खुशबू का आनंद लें। आप चाय के अनेक प्रकार और अगरबत्ती, नीलगिरी के तेल, सुगंधित मोमबत्तियों, फूलों से बने इत्र और अन्य उत्पादों की ख़रीददारी कर सकते हैं। न.एच 67 के जंक्शन पर चेरिंग क्रॉस है, जहां आप वहां के स्थानीय लोगों के साथ बातचीत करते हुए ऊनी कपड़ों की ख़रीददारी कर सकते हैं।