पुराने समय की यात्रा का वास्तविक अनुभव प्राप्त करने के लिए भारत के सबसे पुराने किलों में से एक पर जाएं। समृद्ध इतिहास और प्राकृतिक सुंदरता का सही मिश्रण, कांगड़ा किला मांझी और बाणगंगा नदियों के बीच के टुकड़े पर स्थित है। कटोच के राजाओं द्वारा निर्मित, जो सबसे पुराने जीवित राजवंशों में से एक है, इस किले को हिमालय का सबसे बड़ा किला कहा जाता है। एक पहाड़ी के ऊपर इसकी रणनीतिक स्थिति, आसपास के क्षेत्रों तक देखी जा सकती है, जिसने इसे विशेष रूप से प्रमुख बना दिया है।

किले से, पहाड़ी दृश्यों के खुले स्थानों का आनंद लें, जो कहीं से एकदम शुष्क है तो कहीं से एकदम हरा-भरा। इसकी प्राचीर पर खड़े होकर आसपास की पथरीली चोटियों पर टकटकी लगाए खड़े होकर यह समझना जरूरी है कि एक समय में इसे अभेद्य क्यों माना गया था!

किले में घूमते-घूमते उसके बारे में जानने की और इच्छा आपको सीधे इतिहास के पन्नों में ले जाएगी। राजसी द्वार और दरवाजों से घिरा यह विशाल प्रांगण और प्राचीन मंदिरों को अपने परिसर में समेटे हुए है। एक पूरा घंटा किले के चारों ओर घूमने के लिए पर्याप्त होगा। हालांकि, अलग-अलग समय में, हिंदू शासकों, मुगल और सिख विजेताओं और बाद में ब्रिटिशों को कांगड़ा की किस बात ने आकर्षित किया था, इस बात को समझने के लिए युग लग जाएंगे। आज, पर्यटक शानदार स्थलों की सुंदरता को महसूस करने के लिए किले के शीर्ष पर चढ़ने के लिए एक छोटी-सी चढ़ाई का आनंद लेते हैं। यहां फोटोग्राफी करने के लिए भी अच्छे अवसर मिल जाते हैं। किले के इतिहास के बारे में अधिक व्यापक जानकारी हासिल  करने के लिए, यात्री किले के ठीक बगल में स्थित महाराजा संसार चंद कटोच संग्रहालय में जा सकते हैं।

अन्य आकर्षण